अंतर्द्वंद

कविता अंतर्मन से उपजी वह कोपल है जो अपने साथ अनेको को विचलित करने का सामर्थ्य रखती है

Comments are closed.